क्या है ‘बिजनेस ड्रिंकिंग’ जिसे लेकर China में मचा है बवाल? अलीबाबा के मैनेजर पर दुष्कर्म के आरोप लगने के बाद छिड़ा है विवाद | What business drinking that created a ruckus in china allegations of rape against alibaba manager

चीन में ‘बिजनेस ड्रिंकिंग’ को लेकर बवाल

चीन (China) में ग्वांग्शी या कहें व्यक्तिगल संबंध बनाने की संस्कृति का चलन है. इसे लेकर कहा जाता है कि ये व्यापार को बढ़ाने और प्रबंधन की नजरों में सम्मान हासिल करने के लिए जरूरी है.

TV9 Hindi

चीन (China) की सबसे बड़ी तकनीकी कंपनियों में से एक अलीबाबा (Alibaba) में दुष्कर्म के हाई प्रोफाइल केस ने देश में सनसनी फैला दी है. दरअसल, सोशल मीडिया पर दफ्तर में शरीब पीने का दबाव बनाने की संस्कृति को लेकर बहस शुरू हो गई है. कॉरपोरेट दुर्व्यवहार को लेकर चीनी जनता काफी भड़की हुई है. ऐसे में इस बात की भी चर्चा शुरू हो गई है कि क्या दफ्तर में शराब पीने की परंपरा अब खत्म हो जाएगी. पब्लिक रिलेसंश कंसलटेंट के तौर पर काम करने वाली एक महिला ने बीबीसी को बताया कि किस तरह उन्हें क्लाइंट्स के साथ पार्टी करने पर मजबूर होना पड़ता है.

दरअसल, चीन में ग्वांग्शी या कहें व्यक्तिगल संबंध बनाने की संस्कृति का चलन है. इसे लेकर कहा जाता है कि ये व्यापार को बढ़ाने और प्रबंधन की नजरों में सम्मान हासिल करने के लिए जरूरी है. वहीं, अब अलीबाबा के एक सीनियर मैनेजर पर दुष्कर्म का आरोप लगा है. इस वजह से चीन की कारोबार से जुड़ी शराब पीने की परंपरा सवालों के घेरे में है. हाल ही में एक महिला कर्मचारी की 11 पेज की शिकायत वाली चिट्ठी चीन के ट्वीटर कहे जाने वाले वीबो पर वायरल हुई. महिला ने इसमें कहा कि काम के सिलसिले से यात्रा करने के दौरान उसने शराब पिया और वो बेहोश हो गई. इसके बाद उसके साथ दुष्कर्म किया गया.

चीनी अभियोजकों ने रद्द किया मामला

महिला का कहना है कि उसके वरिष्ठ कर्मचारियों ने उसे शराब पीने का आदेश दिया. इसके बाद आंख खुलने पर महिला ने खुद को निर्वस्त्र पाया और उसे इस दौरान घटे घटनाक्रम के बारे में कोई जानकारी नहीं थी. सीसीटीवी फुटेज के आधार पर महिला ने दावा किया उस रात उनका मैनेजर कमरे में आया था. वहीं, अलीबाबा ने अब मैनेजर को नौकरी से निकाल दिया है. यहां गौर करने वाली बात ये है कि चीनी अभियोजकों द्वारा मामले को ये कहते हुए रद्द कर दिया गया है कि व्यक्ति ने जो जबरदस्ती अश्लीलता की है वो अपराध की श्रेणी में नहीं है. पुलिस ने कहा है कि व्यक्ति को सिर्फ 15 दिनों तक हिरासत में रखा जाएगा.

खत्म हो सकती है जबरदस्ती शराब पीलाने की परंपरा

हालांकि, इस घटनाक्रम के बाद सोशल मीडिया पर काफी बवाल खड़ा हो गया है. यही वजह है कि अब विशेषज्ञों का कहना है कि बढ़ते गुस्से को देखते हुए जबरदस्ती शराब पीलाने की ये परंपरा समाप्त हो जाएगी. दरअसल, चीन में सरकार की उद्योगों पर काफी सख्ती रही है. देश की बड़ी कंपनियां पहले से ही सरकार के निशाने पर हैं. ऐसे में कोई भी कंपनी ये नहीं चाहती है कि वो सरकार का टार्गेट बने. अलीबाबा प्रकरण सामने आने के बाद कंपनी के सीईओ ने कर्मचारियों को भेजे एक संदेश में कहा था कि कंपनी जबरदस्ती शराब पिलाने की संस्कृति की घोर विरोधी है. इसके बाद एक चीनी संस्था ने कहा कि ये अशोभनीय संस्कृति समाप्त होनी चाहिए.

ये भी पढ़ें: योग इंस्ट्रक्टर की वजह से टूटी महिला की जांघ की हड्डी, चलना फिरना हुआ मुश्किल, अब कोर्ट में करेगी अपील