Anchor investors will now get such help sitting at home – Business News India

निवेशकों को वित्तीय सलाह से लेकर उत्तराधिकार से जुड़ी प्रक्रिया, मृत्यु के बाद परिवार को जरूरी सलाह और मदद अब एक मंच पर घर बैठे ऑनलाइन मिलेगी। पंजीकृत निवेश सलाहकार संघ (एआरआईए) ने इसकी शुरुआत की घोषणा की है। एआरआईए ने ऑनलाइन निवेशक सहायता हेल्पडेस्क लॉन्च किया। बाजार नियामक सेबी ने भी इसमें अहम भूमिका निभाई है। सेबी द्वारा निवेश सलाहकार नियमों की शुरूआत के बाद, 2017-18 में पंजीकृत निवेश सलाहकार संघ (एआरआईए) का गठन किया गया था। वित्तीय जगत के दिग्गज के.वी कामत ने इसे पेश किया।

उद्घाटन के अवसर पर बोलते हुए, के.वी. कामथ, पूर्व अध्यक्ष, न्यू डेवलपमेंट बैंक ने कहा, एआरआईए ट्रू केयर इस कठिन समय में एआरआईए द्वारा एक सराहनीय पहल है, जब ऐसे लोगों की मदद करना वास्तव में महत्वपूर्ण है, जो किसी प्रियजन को खोने के बाद वित्तीय मामलों में सहायता लेने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। मुझे विश्वास है कि निवेशकों और निवेश सलाहकारों के लिए एक आधिकारिक संसाधन के रूप में विकसित होकर, एआरआईए एक बड़ी जरूरत को पूरा कर रहा है जिसकी आज के तेजी से बढ़ते खुदरा निवेशक पारिस्थितिकी तंत्र में जरूरत है।

यह भी पढ़ेंः पेट्रोल और डीजल की कीमतों में आज फिर हुआ इजाफा, चेक करें अपने शहर का रेट

कैसे करेगा काम

इस मंच को एआरआईए ट्रू केर्यस नाम दिया गया है। यह निवेशकों के परिवारों, साथी वित्तीय सलाहकारों और समुदाय को विशिष्ट चुनौतियों या स्थितियों के आधार पर वित्तीय मामलों में मदद करने के लिए जैसे कि निवेशक की मृत्यु पर संपत्ति के हस्तांतरण से संबंधित प्रक्रियाओं के मानकीकरण के लिए विस्तृत रूप से क्रेंद्रित है। इसका उद्देश्य सभी सूचनाओं को एक साथ लाना है जो एक निवेशक को चाहिए और इसमें विभिन्न वित्तीय संस्थानों, बैंकों आदि द्वारा अपनाई जाने वाली प्रक्रियाओं को ध्यान में रखा गया है। एक ही स्थान पर सभी परिसंपत्ति वर्गों में प्रामाणिक निवेशक-प्रासंगिक जानकारी प्रदान करने के साथ एआरआईए अपने स्वयंसेवकों के माध्यम से विशिष्ट निवेशक / निवेशक सलाहकार प्रश्नों का उत्तर हेल्पडेस्क – [email protected] पर प्रदान करती है।

इन सेवाओं के लिए दौड़-भाग नहीं करनी होगी

किसी भी वित्तीय परिसंपत्ति श्रेणी की नामांकन (नॉमिनी) की सुविधाओं पर ध्यान दिया गया है। साथ ही वित्तीय उपभोक्ताओं और उनके उत्तराधिकारियों के लिए इन सुविधाओं को बढ़ाने, सुधारने और उन्नत करने के उपायों में सहयोग करेगा। इसमें बैंक खातों, बैंकों के सुरक्षित जमा लॉकर, डीमैट खातों और म्यूचुअल फंड पर ध्यान केंद्रित किया गया है और एआरआईए द्वारा जारी की गई बाद की शृंखला में आगे बढऩे वाले अन्य परिसंपत्ति वर्गों पर ध्यान केंद्रित करने का वादा किया गया है।

यह भी पढ़ेः Yes Bank का तोहफा, 35 साल तक मिलेगा होम लोन चुकाने का मौका