Bacchon Ko Mobile Se Nnuksan: Bacchon Me Mobile Ki Lat Ko Chudaye | side effects of mobile phone on child in hindi | Bacchon Ko Mobile Se Nnuksan: क्या आप भी बच्चों के मोबाइल देखने से हैं परेशान, तो करें ये काम

Bacchon Ko Mobile Se Nnuksan: क्या आपका बच्चा भी हमेशा मोबाइल से चिपका रहता है, तो आपको सावधान हो जाना चाहिए। क्योंकि मोबाइल का अधिक इस्तेमाल आपके बच्चे के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। डॉक्टरों की माने तो मोबाइल बहुत ज्यादा यूज(Kids Use Mobile) करने से बच्चों में अवसाद, अनिद्रा व चिड़चिड़ापन जैसी मानिसक बीमारियां बढ़ रही हैं।

इसके अलावा मोबाइल की लत से बच्चों में सिर दर्द, भूख न लगना, आंखों की रोशनी कम होना, आंखों में दर्द, गर्दन में दर्द जैसी कई घातक बीमारियां सामने आ रही हैं(mobile phone side effects)। जो बच्चों के स्वस्थ्य के लिए कहीं से भी ठीक नहीं हैं। आज हम आपको बच्चों की इन्हीं आदतों से छुटकारा दिलाने के उपाय बताएंगे जिसे अपना कर आप अपने बच्चों में इस आदत को खत्म कर सकते हैं।

किसी भी बात के लिए बच्चों को प्यार से समझाएं pic(social media)

कैसे पड़ती है बच्चों में मोबाइल देखने की आदत(bacchon Me Mobile Dekhne Ki Adat)

अक्सर देखा गया है कि जब मम्मियां किसी काम में बिजी रहती हैं तब वे खुद उन्हें बिजी रखने के लिए मोबाइल देती हैं। लेकिन यही करना बच्चों की आदत बन जाती है। या आजकल जबसे कोराना काल चला है तब से भी बच्चे ज्यादा मोबाइल देखने लगे हैं। क्योंकि ऑनलाइन क्लास के चलते बच्चों के पास मोबाइल रहता था।

कैसे छुड़ाएं मोबाइल की लत(Kaise Chudayen Bacchon Me Mobile Ki Lat)

बच्चों की मोबाइल देखने की लत आप एक दिन में ही नहीं छुड़ा सकती हैं। कुछ समय आपको लगेगा बच्चों से मोबाइल की आदत छुड़ाने में और कुछ समय बच्चे को भी लगेगा अपनी आदत में बदलाव लाने में। इसलिए धैर्य के साथ कोई भी फैसला लें। ताकि आपके किसी भी कदम से बच्चे हर्ट न हों। आइये जानते हैं कि आप आसनी से बच्चे में मोबाइल देखने के इस आदत को कैसे छुड़ाएं

बच्चों को खेलाएं बाहर खेले जाने वाले खेल pic(social media)

आउटडोर गेम खिलाएं(Play Outdoor Games)

बच्चों को बिजी रखने में थोड़ा समय तो आपको भी देना पड़ेगा। बहुत सारे आउटडोर गेम्स हैं जिन्हें बच्चों को खेलने के लिए प्रेरित करें। इन खेलों को खेलने से बच्चों का स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा। और बच्चे बिजी भी रहेंगे।

जानें बच्चों की रुचि(Children interest)

पैरेंट को बच्चों की रुचि जानना बहुत जरूरी है। हो सकता है उसके अंदर कोई ऐसा टैलेंट छुपा हो जिसमे वो अपना भविष्य बना ले। इसलिए बच्चों की रुचि जानकर आप उसे उस काम में लगाकर बिजी कर सकते हैं।

बच्चों से बात करें(Bacchon Se Kare Baat)

बच्चों से हमेशा बात चीत करते रहना चाहिए। इससे आपको पता चलता रहेगा कि आपके बच्चे कब क्या कर रहे हैं। और सबसे बड़ी बात कि बच्चों से बात करके आप उनसे मित्रता बढ़ा सकते हैं। ऐसा करने से अगर बच्चे किसी प्राब्लम में होगें तो वे बेझिझक आपसे क सकते हैं।

मोबाइल कम दें (bacchon Ko Mobile Kam De)

स्‍मार्टफोन हमारी जिंदगी का एक अहम हिस्‍सा बन गए हैं। बच्चे जब बड़े हो जाएगे तब आपको उन्हें मोबाइल देना ही पड़ेगा। इसलिए कभी कभी आप बच्चों को कुछ समय के लिए मोबाइल दे सकत हैं।

बच्चों को समझाएं(Bacchon Ko Samjhaye)

अगर आपका बच्चा कोई भी ऐसा काम करता है जो उसके लिए सही नहीं है। जब आपको चाहिए कि आप अपने बच्चे को आराम से और प्यार से समझाएं कि क्या गलत है और क्या सही। यकीनन आप की बात आपका बच्चा जरूर समझेगा।

WHO की चेतावनी(WHO KI Chetawani)

WHO ने भी बच्चों के मोबाइल देखने को गलत बताया है और इससे होने वाले खतरे से भी सावधान किया है। विश्व स्वास्थ संगठन ने 5 साल से कम उम्र के बच्चों को स्क्रीन के सामने ज्यादा समय बिताने को चेतावनी दी है। इससे बच्चों के शारिरिक और मानसिक विकास पर सीधा असर पड़ता है।