Children Who Presented Cultural Programs Were Honored – सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुत देने वाले बच्चों को किया सम्मानित

सांस्कृतिक कार्यक्रम में प्रस्तुति देने वाले विद्यार्थियों को सम्मानित करते हुए।

सांस्कृतिक कार्यक्रम में प्रस्तुति देने वाले विद्यार्थियों को सम्मानित करते हुए।
– फोटो : Narnol

ख़बर सुनें

नारनौल। गांव पटीकरा में गोपाल सेवा समिति द्वारा गणेश महोत्सव में सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाले बच्चों के लिए मंगलवार शाम को पुरस्कार वितरण समारोह किया गया। कार्यक्रम में शिक्षिका एवं सामाजिक कार्यकर्ता सोनू भारद्वाज मुख्य अतिथि रही। उन्होंने महोत्सव में सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाले बच्चों की सराहना की। उन्होंने कहा कि पढ़ाई के साथ-साथ सांस्कृतिक गतिविधियां बच्चों के सर्वांगीण विकास में अहम योगदान देती है। बच्चों को पढ़ाई के साथ सांस्कृतिक गतिविधियों में भाग लेना चाहिए।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए समिति के संरक्षक शिक्षाविद डॉ. जितेंद्र भारद्वाज ने कहा कि धार्मिक व सांस्कृतिक कार्यक्रम हमारी संस्कृति का अहम हिस्सा है। यह कार्यक्रम हमारे संस्कारों और संस्कृति के संवाहक होते हैं तथा नई पीढ़ी में संस्कारों का निर्माण करते हैं। कार्यक्रम का संयोजक समिति अध्यक्ष ललित गोयल एवं सचिव हेमंत यादव ने कहा कि अगले वर्ष भी महोत्सव धूमधाम से मनाया जाएगा। कार्यक्रम में नृत्य प्रस्तुति के लिए रश्मि, कीर्ति, रागिनी, ज्योति, काजल, ईशान, कशक, रुचि व गुंजन, रंगोली के लिए रागिनी, ज्योति, ईशान, पारुल तथा मेहंदी में रागिनी, डोली, नेहा, शिवानी को पुरस्कार एवं प्रशस्ति पत्र भेंट कर सम्मानित किया गया। अवसर पर रजनी देवी, सुषमा, पुष्पा, ममता, किरण, सुमन व शीतल गोयल उपस्थित रही।

नारनौल। गांव पटीकरा में गोपाल सेवा समिति द्वारा गणेश महोत्सव में सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाले बच्चों के लिए मंगलवार शाम को पुरस्कार वितरण समारोह किया गया। कार्यक्रम में शिक्षिका एवं सामाजिक कार्यकर्ता सोनू भारद्वाज मुख्य अतिथि रही। उन्होंने महोत्सव में सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाले बच्चों की सराहना की। उन्होंने कहा कि पढ़ाई के साथ-साथ सांस्कृतिक गतिविधियां बच्चों के सर्वांगीण विकास में अहम योगदान देती है। बच्चों को पढ़ाई के साथ सांस्कृतिक गतिविधियों में भाग लेना चाहिए।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए समिति के संरक्षक शिक्षाविद डॉ. जितेंद्र भारद्वाज ने कहा कि धार्मिक व सांस्कृतिक कार्यक्रम हमारी संस्कृति का अहम हिस्सा है। यह कार्यक्रम हमारे संस्कारों और संस्कृति के संवाहक होते हैं तथा नई पीढ़ी में संस्कारों का निर्माण करते हैं। कार्यक्रम का संयोजक समिति अध्यक्ष ललित गोयल एवं सचिव हेमंत यादव ने कहा कि अगले वर्ष भी महोत्सव धूमधाम से मनाया जाएगा। कार्यक्रम में नृत्य प्रस्तुति के लिए रश्मि, कीर्ति, रागिनी, ज्योति, काजल, ईशान, कशक, रुचि व गुंजन, रंगोली के लिए रागिनी, ज्योति, ईशान, पारुल तथा मेहंदी में रागिनी, डोली, नेहा, शिवानी को पुरस्कार एवं प्रशस्ति पत्र भेंट कर सम्मानित किया गया। अवसर पर रजनी देवी, सुषमा, पुष्पा, ममता, किरण, सुमन व शीतल गोयल उपस्थित रही।