Health Tips : मेनोपॉज की तकलीफ को कम करने के लिए लाइफस्टाइल में करें ये बदलाव | Menopause do these changes in lifestyle to reduce symptoms menopause

40 साल की उम्र के बाद महिलाओं के शरीर में कई तरह के बदलाव आते हैं जिसका सीधा संबंध मेनोपॉज (Menopause) से जुड़ा है. मेनोपॉज के बाद महिलाओं को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है.

TV9 Hindi

  • TV9 Hindi
  • Updated On – 11:11 am, Mon, 4 October 21Edited By: प्रियंका झा
    Follow us – google news

मेनोपॉज (Menopause) एक ऐसा समय होता है जब महिला की महवारी बंद हो जाती है. अगर 10 से 12 महीनों से पीरियड्स नहीं आना मेनोपॉज कहलता है. यह 45 से 55 वर्ष की उम्र में देखने को मिलती है. मेनोपॉज एक नेचुरल प्रोसेस है, इसमें घबराने की बात नहीं है. महिलाओं को मेनोपॉज के बाद कई तरह की परेशानियों को सामना करना पड़ता है. जिससे उनकी दिनचर्या प्रभावित होती है. आइए जानते हैं मेनोपॉज के लक्षण और इस होने वाली तकलीफ को कम करने के लिए लाइफस्टाइल में क्या बदलाव करने चाहिए.

मेनोपॉज के लक्षण

मूड स्विंग
बाल झड़ना
नींदू पूरी न होना या नींद नहीं आना
अधिक पसीना आना
खाने की क्रेविंग होना

1. डाइट पर खास ध्यान दें

न्यूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर के अनुसार बैलेंस डाइट आपके शरीर में होने वाले बदलावों को स्पोर्ट करेंगे. इसके अलावा माइक्रोन्यूट्रिएंट्स पर खास ध्यान दें. डाइट में मौसमी, ट्रेडिशनल और लोकल चीजों को शामिल करें. इस समय में किसी तरह की डाइटिंग, इंटरमिटेंट फास्टिंग करने से बचना चाहिए. सही और पौष्टिक आहार आपके मूड को बेहतर बनाने के साथ- साथ वजन घटाने में भी मदद करता है.

2. एक्सरसाइज करें

सेलिब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट सलाह देती हैं कि एक्सरसाइज करने से शरीर में मजूबती, स्टैमिना और फ्लेक्सबिलिटी बढ़ती है. इसके साथ योगा और कार्डियो एक्सरसाइज को हफ्ते में दो दिन करना चाहिए. उन्होंने कहा कि हर महिला को कम से कम आधे घंटे एक्सरसाइज करना चाहिए. अगर एक्सरसाइज करना पसंद नहीं तो योगा करें.

पर्याप्त आराम करें

न्यूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर के अनुसार दिन के समय में 20 मिनट का नैप लेना चाहिए और रात को 9: 30 से 11 बजे के बीच रात को सो जाना चाहिए. पर्याप्त मात्रा में आराम करना शरीर के लिए बहुत जरूरी है. मेनोपॉज में किसी तरह की डाइटिंग या हैवी एक्सरसाइज करने से बचना चाहिए. पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं, वरना डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है.

मेनोपॉज में कैल्शियम की कमी हो जाती है. इस समय में कैल्शियम से भरपूर चीजों का सेवन करें. अगर आप किसी तरह का स्पलीमेंट लेने की सोच रही हैं तो पहले डॉक्टर की सलाह लें. इसके अलावा अगर आपको किसी भी तरह की परेशानी हो रही है तो सीधा दवाई न लें. इससे आपकी सेहत को नुकसान पहुंच सकता है. इसके लिए किसी गायनेकोलॉजिस्ट की सलाह लें.

ये भी पढ़ें – Weight loss : खाली पेट लहसुन खाने से घटती है पेट की चर्बी, जानिए ढेरों फायदे

ये भी पढ़ें – आपको बेहद पसंद आएगी ये बॉम्बे ग्रिल्ड सैंडविच, जानिए इसकी रेसिपी