IIT Kharagpur will prepare hi tech pantoon bridge for Bihar river port will soon be built in Chhapra on Ganga

बिहार की नदियां अब सुगम परिवहन और व्‍यापार का जरिया बनेंगी। भारतीय जलमार्ग प्राधिकरण के अध्यक्ष जयंत सिंह ने शुक्रवार को पटना में कहा कि बिहार में जलमार्ग विकसित किया जाएगा। गंगा के साथ कई सहायक नदियां होने के कारण यहां संभावनाएं हैं।

पटना सिटी, जागरण संवाददाता। Water Way in Bihar: बिहार की नदियां अब सुगम परिवहन और व्‍यापार का जरिया बनेंगी। भारतीय जलमार्ग प्राधिकरण के अध्यक्ष जयंत सिंह ने शुक्रवार को पटना में कहा कि बिहार में जलमार्ग विकसित किया जाएगा। गंगा के साथ कई सहायक नदियां होने के कारण यहां संभावनाएं हैं। सस्ते और सुरक्षित तरीके से माल की ढुलाई के साथ ही यात्रियों के लिए यह मार्ग सुविधाजनक होगा। नदियों में जगह-जगह पीपा पुल को अब अत्याधुनिक बनाने के लिए आइआइटी खडग़पुर में माडल तैयार किया जाएगा। अगले छह माह में इसका ट्रायल होगा। सफल होने पर सभी जगह पीपा पुल में बदलाव होगा। प्रयास यह है कि जहाज के पहुंचते ही पीपा पुल तुरंत खुल सके ताकि यात्री व माल को पहुंचने में देरी न हो।

गायघाट स्थित भारतीय अंतरदेशीय नौवहन संस्थान का भ्रमण करने के बाद अध्यक्ष ने कहा कि बिहार में गंगा के उत्तरी तट पर जहाज के लिए पहला बंदरगाह छपरा के कालू घाट पर अगले दो वर्ष में तैयार हो जाएगा। यहां से उत्तर बिहार से लेकर नेपाल तक जहाजों का परिचालन आसान हो जाएगा। आइडब्लूएआइ में अभी 128 जहाज हैं। आवश्यकतानुसार दो दर्जन जहाज की खरीद की जाएगी। जयंत ङ्क्षसह ने कहा कि देसी नावों के सुरक्षित परिचालन के लिए बिहार में 25 जगहों पर बंदरगाह 2022-23 तक तैयार हो जाएगा।

  • बिहार के लिए आइआइटी खडग़पुर में बनेगा आधुनिक पीपा पुल
  • आइडब्लूएआइ के अध्यक्ष बोले- जलमार्ग से होगा प्रदेश का विकास
  • अगले वर्ष तक बिहार में नावों के लिए तैयार हो जाएंगे 25 बंदरगाह
  • खरीदे जाएंगे दो दर्जन पानी के जहाज, अभी 128 जहाज उपलब्ध

नौवहन संस्थान में कई उपयोगी कोर्स शुरू किए जाएंगे। इससे रोजगार के अवसर पैदा होंगे। बनारस, हल्दिया व साहेबगंज में बंदरगाह विकसित किया गया है। उन्होंने प्रशिक्षण संस्थान का भ्रमण कर खराब पड़ी मशीनों को ठीक करने तथा पठन-पाठन व्यवस्था को और बेहतर बनाने का निर्देश दिया।