Punjab Automobile News, Three thousand cars Delivery stopped Due to delay semiconductor chip in Ludhiana

लुधियाना, [मुनीश शर्मा]। शहर के लगभग 3 हजार से अधिक लोग इन दिनों कार की डिलीवरी के इंतजार में हैं। कारण, देश में इस समय कार निर्माताओं को सेमीकंडक्टर चिप की कमी के चलते प्रोडक्शन प्रोसेस को पूरा कर पाने में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जिन कारों की सबसे अधिक डिमांड और शार्टेज है इसमें सेडान, हैचबैक और एसयूवी प्रमुख हैं।

कंपनियों के दावों के बावजूद डीलर्स को सप्लाई नहीं मिल पा रही है। उन्हें आए दिन ग्राहकों को बार-बार समय देने को कहना पड़ रह है। जहां पहले स्टील की कमी के चलते कार निर्माता कंपनियों की ओर से प्रोडक्शन को कम किया गया था। वहीं अब सेमीकंडक्टर चिप की कमी के चलते कारों की डिलीवरी नहीं हो पा रही।

क्या है सेमीकंडक्टर चिप

चीन, ताइवान और दूसरे यूरोपीय देशों में अभी भी चिप की शॉर्टेज है। चिप या सेमीकंडक्टर चिप में इलेक्ट्रिक सर्किट होता है, जिसमें सेमीकंडक्टर वेफर पर दूसरे कंपोनेंट्स जैसे ट्रांजिस्टर और वायरिंग होती है। एक डिवाइस में कई सेमीकंडक्टर चिप होती हैं, जो एक इंटीग्रेटेड सर्किट (आईसी) बनाती हैं, जो कई गैजेट्स और इलेक्ट्रिक डिवाइसेज में काम आता है। वहीं मॉर्डन कारों में इलेक्ट्रिक सर्किट की भरमार होती है, क्योंकि कारों में आ रहे लेटेस्ट फीचर इन्हीं पर बेस्ड होते हैं। यहां तक कि इंजन परफॉरमेंस, ऑटोमैटिक इमरजेंसी ब्रेकिंग जैसे फीचर भी इन्हीं के जरिए काम करते हैं। हालांकि चिप्स की शॉर्टेज से पूरी दुनिया की ऑटो इंडस्ट्री परेशान है, भारत इसमें अकेला नहीं है।

क्या कहते हैं डीलर्स

गुलजार मोटर्स के एमडी हरकिरत सिंह के मुताबिक कारों की मांग अधिक है और अभी डिलीवरी नहीं मिल पा रही। बात सीएनजी कारों की करें, तो इसके सारे माडल ही देरी से आ रहे हैं। इसके साथ ही मारूति की डिजाइर, ब्रिजा और आर्टिगा की मांग के मुताबिक बेहद परेशानी हो रही है। आने वाले फेस्टीवल सीजन में अगर हालात न सुधरे तो भारी परेशानी का सामना करना पड़ेगा।

ग्रोवर हुंडई के एमडी कुलवंत सिंह ग्रोवर के मुताबिक कई कारों में लंबे समय से शार्टेज बनी हुई है। चिप के बिना किसी को कार की डिलिवरी नहीं दी जा सकती। ऐसे में जब तक चिप की प्रोडक्शन फास्ट नहीं होती तो समस्या बनी रहेगी।

लुधियाना में किन कारों के लिए कितनी शार्टेज

1. फार्चूनर — दो से तीन महीने

2. इनोवा – एक से दो महीने

3. करेटा — तीन से चार महीने

4. किया सेल्टास — चार से पांच महीने

5. सोनेट — एक से दो महीने

6. एंडेवर — दो महीने

7. मर्सडीज जीएलई — तीन महीने

8. बीएमडबल्यू एक्स 5 एवं एक्स 7 — दो महीने

यह भी पढ़ें-Teachers Day 2021: लुधियाना की अध्यापिका सतिंदर कौर ने काेराेना काल काे अवसर में बदला, Youtube चैनल बना बच्चों को करवाई ईजी लर्निंग