There Is No Religion Greater Than Non-violence – अहिंसा से बढ़कर नहीं कोई धर्म

There is no religion greater than non-violence

-पंचायत समिति में हुई विचार गोष्ठी में बोले वक्ता

हिण्डौनसिटी. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 152वीं जयंती के उपलक्ष्य में पंचायत समिति सभागार में रविवार को ‘मोहन से महात्माÓ विषय पर एक विचार गोष्ठी हुई। जिसमें वक्ताओं ने महात्मा गांधी के जीवन चरित्र पर प्रकाश डाला।

महात्मा गांधी जीवन दर्शन समिति के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य नफीस अहमद ने बताया कि गोष्ठी में रिटायर्ड शिक्षक छगन लाल गुप्ता ने कहा कि गांधी जैसा व्यक्तित्व सदियों में एक पैदा होता है। आज उनके दर्शन एवं सिद्धांतों को पूरा विश्व मान रहा है।यह प्रत्येक भारतीय के लिए गौरव की बात है।

सेवानिवृत शिक्षाधिकारी वीर सिंह बेनीवाल ने इस अवसर पर अपने विचार रखते हुए कहा कि गांधी जी ने समाज में भेदभाव मिटाकर एकता कायम की ओर अंग्रेज हुकूमत से अहिंसा के बल पर देश को आजादी दिलाई।

देहात ब्लाक कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह सोलंकी, ओपी मंगल, संतराज सैनी, रामचरण खुरसटपुरा, एनजीराम मीण ने गांधी के बताए अहिंसा परमो धर्म के मार्ग पर चलने की बात कही। इस दौरान राजवीर डागुर, भगत सिंह, धीरेंद्र चौधरी आदि मौजूद थे।